हिन्दी

aus vs ind 4th test impasse: bcci formally writes to ca on relaxation of brisbane hard quarantine – ब्रिसबेन में क्वारंटीन नियमों में मिले राहत, टीम इंडिया की मदद के लिए आगे आई बीसीसीआई

हाइलाइट्स:

  • भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट सीरीज का चौथा मैच ब्रिसबेन में खेला जाना है
  • यहां क्वारंटीन नियमों में राहत देने के लिए बीसीसीआई ने क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया को लिखा है
  • बीसीसीआई का कहना है कि समझौते में इस तरह के क्वारंटीन नियमों का जिक्र नहीं था
  • ब्रिसबेन में खिलाड़ियों को दिन के खेल के बाद अपने होटल के कमरों तक ही सीमित रहना होगा

नई दिल्ली
भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने चौथे टेस्ट के लिए ब्रिसबेन में कड़े क्वारंटीन प्रोटोकॉल में राहत देने के लिए गुरुवार को क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) को लिखा है। इसमें मेजबान बोर्ड को ध्यान दिलाया गया कि मेहमान टीम ने दौरे के शुरू में सहमति के अनुसार कड़े क्वारंटीन नियमों का पालन किया था। पता चला है कि बीसीसीआई के एक शीर्ष कार्यकारी ने सीए प्रमुख एर्ल एडिंग्स को दौरे के तौर तरीकों पर दोनों बोर्डों की ओर से हस्ताक्षर किए गए समझौते पत्र का हवाला दिया जिसमें अलग शहरों में दो कड़े क्वारंटीन प्रोटोकॉल का कोई जिक्र नहीं था।

ब्रिसबेन टेस्ट 15 जनवरी से शुरू होगा और क्वारंटीन नियमों के अनुसार खिलाड़ियों को दिन के खेल के बाद अपने होटल के कमरों तक ही सीमित रहना होगा। बीसीसीआई के सीनियर अधिकारी ने कहा, ‘चर्चा अभी जारी है लेकिन आज बीसीसीआई ने औपचारिक रूप से पत्र भेजकर अपने खिलाड़ियों के लिए ब्रिसबेन में होने वाले मैच के लिए कड़े क्वारंटीन नियमों में राहत देने की मांग की है।’ अधिकारी ने कहा, ‘हस्ताक्षर किए गए समझौते पत्र में दो कड़े क्वारंटीन का जिक्र नहीं किया गया था। भारत ने सिडनी में एक सख्त क्वारंटीन का पालन किया (जिसमें अभ्यास के बाद खिलाड़ी सीधे होटल के कमरे में पहुंचे)।’

AUS vs IND 3rd Test Day 1: सिडनी टेस्ट में पहले दिन क्या-क्या हुआ और किसका पलड़ा रहा भारी, देखें खास रिपोर्ट

बीसीसीआई ने अपने खिलाड़ियों की शिकायतों को संबोधित करते हुए क्या मांग की है और इस समय क्वींसलैंड स्वास्थ्य अधिकारियों का क्या पक्ष है? तो उन्होंने कहा, ‘बीसीसीआई की मांग सरल है। खिलाड़ी होटल बायो-बबल के अंदर एक दूसरे से मिलना जुलना चाहते हैं जैसा कि इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के दौरान करते थे। वे होटल के अंदर एक दूसरे के साथ खाना चाहते हैं और साथ में ही टीम बैठके करना चाहते हैं। यह कोई बड़ी मांग नहीं है।’

AUS vs IND: क्या वाकई में भारतीय खिलाड़ियों ने खाया था बीफ?

बायो बबल के नियम इसलिए लगे हास्यास्पद
जहां तक सीए की सूचना का संबंध है तो उसने कहा है कि खिलाड़ी अपने कमरे के बाहर एक दूसरे से मिल सकते हैं लेकिन सिर्फ वे ही जो एक तल (फ्लोर) पर रूके हों। दो अलग अलग तल पर रूकने वाले खिलाड़ी एक दूसरे के संपर्क में नहीं आ सकते जो बात कईयों को हास्यास्पद लगी। उन्होंने कहा, ‘बीसीसीआई ने सीए को बताया है कि क्वारंटीन नियमों में छूट लिखित में दी जानी चाहिए। संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से सिडनी पहुंचने के बाद भारत के कड़े क्वारंटीन में प्रत्येक तल पर पुलिस अधिकारी होते थे ताकि सुनिश्चित हो कि जैव सुरक्षा प्रोटोकॉल का कोई उल्लघंन नहीं हो।’

आईपीएल की तरह हो ब्रिसबेन में बायो बबल
उन्होंने कहा, ‘उम्मीद करते हैं कि अगर टीम ब्रिसबेन पहुंचती है तो इस तरह का कुछ नहीं होगा। हम यही चाहते हैं कि आईपीएल की तरह का बायो-बबल हो।’ भारतीय खिलाड़ियों को सिडनी में चल रहे तीसरे टेस्ट के लिए होटल क्वारंटीन में रखा गया है और कप्तान अजिंक्य रहाणे ने यह कहकर अपनी नाराजगी स्पष्ट की थी कि उस समय ‘होटल में रहना चुनौतीपूर्ण’ था जबकि बाहर से शहर ‘सामान्य’ दिख रहा हो। अगर क्वींसलैंड अधिकारियों का रूख नरम नहीं हुआ तो चौथा टेस्ट समान तारीख में सिडनी में खेला जा सकता है लेकिन इसकी संभावना कम है क्योंकि बातचीत का दौर जारी है।

Source

Show More

Related Articles

Back to top button